[ad_1]

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • बिहार
  • पुलिस की ज्यादती का शिकार हुआ युवक, मुंगेर में बाटा चौक के पास उस रात हुआ था, मुंगेर के पास मुंगेर में फायरिंग हादसा, मुंगेर लिपिका सिंह में दुर्गा विसर्जन को लेकर झड़प, मुंगेर पुलिस की झड़प, बिहार में अपराध, मुंगेर में पुलिस की फायरिंग

मुंगेर10 मिनट पहलेलेखक: कृष्णा बल्लभ नारायण

  • कॉपी लिंक
whatsapp image 2020 10 29 at 125453 pm 3 1604073744

मुंगेर में पुलिस फायरिंग के विरोध में गुरुवार को कई जगह आगजनी हुई।

  • जैसे ही प्रतिमा रखी गई, पुलिस आई और वहां बैठे लोगों की जमकर धुनाई करने लगी
  • भीड़ पर निगरानी को हर साल सीसीटीवी कैमरे लगाए जाते थे, इस बार नहीं लगे

मुंगेर का बवाल थम गया है। शहर अब शांत हो गया है। बेपटरी हुआ यहां का माहौल पटरी पर आने लगा है। शहर के हर चौक-चौराहे पर पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है। कड़ी नजर रखी जा रही है। ‘दैनिक भास्कर’ की टीम लगातार हर पल आप तक खबरें पहुंचा रही है। हमारी टीम ने एक ऐसे शख्स को खोज निकाला, जो बड़ी देवी के प्रतिमा विसर्जन में शामिल था। इस चश्मदीद ने कैमरे के सामने हर उस घटना को शेयर किया, जो 26 अक्टूबर की रात में हुई थी। पुलिस की लाठियों और उसकी गुंडागर्दी का शिकार ये चश्मदीद भी हुआ था। पुलिस की पिटाई से इस युवक का दाहिना हाथ भी फ्रैक्चर हो गया है। उसे काफी चोटें आई हैं। इसके बावजूद अपनी पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर वह उसी बाटा चौक पर आया जहां पुलिस ने फायरिंग की शुरुआत की थी। उसने हमें घटना के रात की हर एक बात को बताया जिसे हम हू-ब-हू लिख रहे हैं।

यह बताया चश्मदीद ने
नेशनल स्टोर होते हुए प्रतिमा बाटा चौक के इस फ्रंट पर आ रही थी। व्हिसिल की आवाज के साथ बाटा चौक पर प्रतिमा को टर्न किया गया और फिर रुक गई। व्हिसिल बजने के साथ यहीं पर प्रतिमा को रखा गया। घटना नेशनल स्टोर की तरफ पहले हो चुकी थी। प्रतिमा रखने के बाद हम लोग बैठ गए थे। हमारे भइया भी बैठे थे। पीछे हमारा दोस्त भी बैठा था। इसके बगल में दो लड़का और बैठा हुआ था, जिसको हम जानते हैं अच्छी तरह से और बाकी लोग भी बैठे हुए थे। तभी मौके पर पुलिस आई और जमकर धुनाई करने लगी। जो सारे लोग मौके पर मौजूद थे, वो भाग गए। सिर्फ प्रतिमा के पास बैठे लोग ही रहे।

मुंगेर में ये क्या हो रहा?:लड़की की लाश घाट पर पड़ी है; जहां गोलियां चलीं, वहीं फंदे से लटकी एक और लाश मिली

इस बार क्यों नहीं लगे सीसीटीवी कैमरे?
हर साल दुर्गा पूजा के मौके पर शहर के अलग-अलग जगहों पर जिला प्रशासन की तरफ से सीसीटीवी कैमरे लगाए जाते थे। एक जगह पर कंट्रोल रूम भी बनाया जाता था। लेकिन इस बार जिला प्रशासन की तरफ से ऐसा कुछ भी नहीं किया गया। भीड़ पर निगरानी रखने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया था। इसे एक बड़ी लापरवाही के तौर पर देखा जा रहा है। अब सवाल यही है कि शहर के अंदर सीसीटीवी कैमरे क्यों नहीं लगवाए गए थे?

[ad_2]

Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें