8X1A9636

मुख्य खाद्य फसलों में खनिज तत्वों की बढ़ाई जाए मात्रा, आम आदमी को होगा लाभ : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

Read Time:4 Minute, 15 Second

मुख्य खाद्य फसलों में खनिज तत्वों की बढ़ाई जाए मात्रा, आम आदमी को होगा लाभ : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

पारंपरिक और आणविक दृष्टिकोण के माध्यम से प्रधान खाद्य फसलों के जैव-फोर्टिफिकेशन विषय पर 21 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू
हिसार : 4 जनवरी
चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार के कुलपति प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज ने कहा कि मुख्य खाद्य फसलों में खनिज तत्वों की मात्रा को बढ़ाने पर जोर दिया जाना चाहिए। वैज्ञानिक पारंपरिक और आणविक दृष्टिकोण के माध्यम से जैव-फोर्टिफिकेशन द्वारा खनिज तत्वों की मात्रा को बढ़ा सकते हैं। वे विश्वविद्यालय के आणविक जीव विज्ञान, जैव प्रौद्योगिकी और जैव सूचना विज्ञान विभाग की ओर से पारंपरिक और आणविक दृष्टिकोण के माध्यम से प्रधान खाद्य फसलों के जैव-फोर्टिफिकेशन विषय पर आयोजित 21 दिवसीय शीतकालीन स्कूल प्रशिक्षण कार्यक्रम के शुभारंभ अवसर पर बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। इस कार्यक्रम का आयोजन भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के सहयोग से किया गया। मुख्यातिथि ने वैज्ञानिकों से आह्वान किया कि वे इस प्रशिक्षण का अधिक से अधिक लाभ उठाएं और आने वाली समस्या के समाधान के लिए सामूहिक रूप से विचार-विमर्श कर कार्य करें। यहां से अर्जित ज्ञान को अपने-अपने क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा उपयोग करें और अन्य वैज्ञानिकों को भी इसके लिए प्रेरित करें। उन्होंने प्रशिक्षण के दौरान कुपोषण उन्मूलन के लिए प्रभावी आंशिक कौशल के साथ सैद्धांतिक ज्ञान प्रदान करने के लिए बुनियादी और व्यावहारिक तकनीकों को शामिल करने पर भी जोर दिया। इस दौरान शीतकालीन स्कूल संबंधी एक मैनुअल का भी विमोचन किया गया।
देशभर के सात राज्यों से वैज्ञानिक ले रहे हैं हिस्सा
पाठ्यक्रम निदेशक डॉ. सुधीर कुमार ने प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए प्रतिभागियों से प्रशिक्षण के दौरान केंद्र व राज्य सरकार की ओर से जारी कोरोना संबंधी हिदायतों को सख्ती से पालन करने का आह्वान किया। उन्होंने बताया कि इस शीतकालीन स्कूल कार्यक्रम में देशभर के सात अलग-अलग राज्यों के आईसीएआर से संबंधित कृषि विश्वविद्यालयों व संस्थानों के कुल 25 उम्मीदवार भाग ले रहे हैं। इस अवसर पर ओएसडी एवं मानव संसाधन निदेशालय के निदेशक डॉ. अतुल ढींगड़ा, मौलिक विज्ञान एवं मानिविकी महाविद्यालय व स्नातकोत्तर अधिष्ठाता डॉ. के.डी. शर्मा, अतिरिक्त अनुसंधान निदेशक एवं एमबीबी एंड बी के विभागाध्यक्ष डॉ. नीरज कुमार सहित एमबीबी एंड बी विभाग के छात्र और फैकल्टी भी उपस्थित थे। डॉ.शिखा यशवीर ने कार्यक्रम के दौरान मंच का संचालन किया।

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Photo 1 DDE 04.01.2022 Previous post गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार
DSC 8432 Next post एचएयू कर्मी ज्योति ने पैरालिंपिक खेलों में जीते मेडल
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
%d bloggers like this: