Side effects of AI: आ गया AI का नया स्कैम, इस तरह करें बचाव

Side effects of AI: आजकल जारी होने वाली हर एक टेक्नोलॉजी आमजन को ढेरो लाभ देती है पर कहीं-न-कहीं इसका कोई एडवांस फॉर्म हमारे लिए मसीबत का कारण बन जाता है.

आप विचार कीजिए की आपके रिश्तेदारों, दोस्तों, बच्चों, परिचितों या यहां तक कि आपकी आवाज का इस्तेमाल कर फाइनेंशियल फ्रॉड किया जाए. तो आपके लिए कितना भयानक होगा? हम मजाक नही आजकल होने वाली ऐसी होने वाली घटनाओं के बारे में बात कर रहे हैं.

हाल ही में हुए एक सुर्वे के अनुसार हरियाणा के एक युवक ने अपने साथ हुई 30 हजार रुपये की ठगी के बारें में बताया है. इस ठगी का कारण AI वॉयस क्लोनिंग टूल की मदद से की गई थी.

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के विधायक ने गिरफ्तार किया ओवरले ज्वैलरी स्कैम

कई लोगो के साथ हुए है हादसे 

एक स्कैमेर ने इस शख्स को एक कॉल किया और उसके दोस्त की आवाज में बात की और कहा कि उसे पैसों की जरूरत क्योंकि एक एक्सीडेंट के बाद वह अस्पताल में एडमिट है.

थोड़ी देर बाद उस व्यक्ति ने अपने दोस्त का हालचाल पूछने के लिए कॉल किया और वहाँ से उसे पता चला कि उनके साथ ठगी हुई है. एक ऐसा ही घटना शिमला में घटी जहां एक शख्स ने दो लाख रुपये गंवा दिए. इस घटना में अपराधी ने शख्स के अंकल की आवाज के साथ बात किया था.

एक हालिया McAfee रिपोर्ट के मुताबिक करीब 83 प्रतिशत भारतीयों ने ऐसे स्कैम्स में अपने पैसे गंवा दिए हैं. वहीं, 69 प्रतिशत भारतीय ह्यूमन और AI जनरेटेड आवाज में अंतर नहीं कर सके.

क्लोनिंग के जरिए कर रहे है वारदात

आर्टफिशियल इंटेलीजेंस ने आवाज की क्लोनिंग करना अपराधियों के लिए आसान बना दिया है. इसी वजह से ऑनलाइन फ्रॉड्स में बढ़ोतरी हुई है.

AI वॉयस क्लोनिंग को वॉयस सिंथेसिस और वॉयस मिमिक्री के नाम से भी जाना जाता है. ये एक टेक्नोलॉजी है, जिसमें मशीन लर्निंग या आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किसी इंसान की आवज की नकल उतारने के लिए किया जाता है. इसके लिए एक तय मात्रा में उस इंसान का वॉयस डेटा चाहिए होता है.

अजय देवगन ने दी बिग बुल – सभी स्कैम टीज़र की माँ, शेयर रिलीज़ की तारीख – देखो | फिल्म समाचार

इस डेटा का इस्तेमाल वॉयस डेटा का एनालाइज करने और यूनिक वोकल कैरेक्टरिस्टिक्स को सीखने के लिए किया जाता है. वॉयस क्लोन बनाने के लिए काफी सारे फ्री और पेड टूल्स हैं, जिनका इस्तेमाल वॉयस क्लोन क्रिएट करने के लिए किया जाता है. इसी के जरिए किसी के साथ धोखाधड़ी भी की जा सकती है.

AI वॉयस स्कैम्स से इस तरह करें बचाव: 

किसी भी अनजान कॉल्स को लेकर रहें सतर्क

अगर आपको किसी अनजान नंबर से कॉल आए तो बिलकुल सतर्क हो जाएं. अगर आपको ऐसा लगे भी कि ये आपके किसी परिचित की आवाज है और वह पैसे या निजी जानकारी आपसे चाह रहा है तो तुरंत हां न करें. आप उनसे कुछ ऐसे सवाल पूछ सकते हैं जो केवल आप दोनों को ही पता हो. ताकी आप वेरिफाई कर सकें.

पैसे मांगने पर ज्यादा सावधान रहें

आमतौर पर साइबर अपराधी पैसों की ठगी इस तरह से करते हैं उन्हें वापस पाना काफी मुश्किल होता है. ऐसे में अगर ज्यादा पैसों की डिमांड की जा रही है तो दो-बार सोचे. वजह पूछें. आपके पास मौजूद नंबर्स पर कॉल करें फिर ही कोई निर्णय लें.

ध्यान से सुनें

आई कॉल को ध्यान से सुनें और देखें कि कहीं इसमें कोई अननैचुरल पॉज या रोबोटिक स्पीच स्टाइल तो नहीं है. साथ ही उच्चारण में त्रुटियों या बोलने के लहजे में बदलाव की भी जांच करें. ये भी देखें कि कहीं आवाज में इमोशनल एक्सप्रेशन है या नहीं.

ऑडियो क्लिप कहीं भी डालने से बचें

आपकी आवाज का क्लोन बनाना काफी आसान है. स्कैमर्स पब्लिक डोमेन में मौजूद ऑडियो क्लिप्स का इस्तेमाल करते हैं. पहले ये आवाज की क्लोनिंग करते हैं फिर आपके परिचितों को फोन करते हैं.

IOCL Recruitment 2023 Online Apply: IOCL की तरफ से निकली बम्पर भर्ती, जल्द करें आवेदन

anvimultisolutions@gmail.com

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *