गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार हिन्दी दिवस पर वेब व्याख्यान का आयोजन

गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के कुलपति प्रो. बलदेव राज काम्बोज ने कहा है कि हिन्दी भाषा पिछले कुछ वर्षों से विश्व पटल पर तेजी से कदम बढ़ा रही है। पूरी दुनिया में हिन्दी भाषा का प्रभुत्व बढ़ रहा है। यह हिन्दी भाषा और भारत के लिए गौरव की बात है। प्रो. बलदेव राज काम्बोज मंगलवार को विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग द्वारा हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित वेब व्याख्यान को बतौर मुख्यातिथि सम्बोधित कर रहे थे। हिन्दी के प्रख्यात विद्वान जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली के भारतीय भाषा केंद्र के अध्यक्ष प्रो. ओमप्रकाश सिंह वेबिनार के मुख्य वक्ता थे। अध्यक्षता मानविकी एवं सामाजिक विज्ञान के अधिष्ठाता प्रो.एन.के.बिश्नोई ने की। कार्यक्रम के प्रभारी हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो. किशनाराम के मार्गदर्शन में हुए इस कार्यक्रम की संयोजिका हिन्दी विभाग की प्रभारी डा. गीतू थी।
प्रो. बलदेव राज काम्बोज ने अपने सम्बोधन में कहा कि भाषा जीवन के साथ बहुत गहरे में जुड़ी है। भाषा के बिना जीवन की कल्पना भी संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति हिन्दी के उत्थान को लेकर कृतबद्ध है। बदलते वक्त में विदेशों में भी हिन्दी को लेकर सकारात्मक सोच उत्पन्न हो रही है। हिन्दी में विश्व की सम्पर्क भाषा बनने की तमाम क्षमताएं हैं। हिन्दी दुनिया में मानव को मानव के निकट लाने के लिए सेतु का काम कर रही है।
मुख्य वक्ता हिंदी के प्रख्यात विद्वान प्रो. ओमप्रकाश सिंह ने अपने वक्तव्य में कहा कि हिन्दी भाषा ने भारतीय संस्कृति और सभ्यता को सहज ही आपस में जोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि मानव के सभ्य और सुसंस्कृत होने में भाषा माध्यम होती है। हिंदी भाषा विश्व परिदृश्य में वाचिक परंपरा से, लिखित माध्यम से, तकनीक से, साहित्य, मीडिया और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से पहुंचती है। उन्होंने कहा हिंदी को भारतीय भाषाएँ और हिंदी की अपनी बोलियां मजबूती प्रदान कर रही हैं और वैश्विक परिदृश्य में हिन्दी का संबल बन रही हैं।
प्रो.एन.के.बिश्नोई ने कहा कि आज हिन्दी भाषा अच्छी स्थिति की ओर जा रही है। भाषाविदों के प्रयासों से ना केवल भाषा को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि आर्थिक दृष्टि से भी हम अपनी भाषा, अपने देश पर गर्व कर सकेंगे।
हिंदी विभाग के अध्यक्ष प्रो. किशनाराम बिश्नोई ने स्वागत सम्बोधन दिया तथा विषय के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम की संयोजिका डा. गीतू ने वेबिनार का संचालन किया। इस अवसर पर शैक्षणिक मामलों के अधिष्ठाता प्रो. हरभजन बंसल, प्रो. वंदना पूनिया, डा. शर्मीला, कल्पना, कोमल, सुमन, सुनीता सहित स्नातकोत्तर के विद्यार्थी उपस्थित रहे।

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें