गुजविप्रौवि हिसार एवं चिमिक (इंडिया) लिमिटेड मिल कर करेंगे काम, गुजविप्रौवि हिसार एवं चिमिक (इंडिया) लिमिटेड के बीच हुआ एमओयू 

Read Time:3 Minute, 9 Second
Photo 1 MoU 22.10.2021गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार एवं चिमिक (इंडिया) लिमिटेड, सिवानी मंडी फूड प्रोसेसिंग एंड टेक्नोलॉजी तथा संबंधित क्षेत्रों में मिलकर कार्य करेंगे।  दोनों संस्थानों का मानना है कि इनके आपस में मिलकर कार्य करने से संबंधित क्षेत्रों में और अधिक बेहतर परिणाम दे सकेंगे तथा एक दूसरे संस्थान की सुविधाओं का पूरा लाभ ले सकेंगे।  इस संबंध में शुक्रवार को दोनों संस्थानों के बीच एक मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टेंडिंग (एमओयू) हस्ताक्षरित किया गया।
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बलदेव राज काम्बोज ने बताया कि चिमिक (इंडिया) लिमिटेड फूड प्रोसेसिंग एंड टेक्नोलॉजी तथा अन्य संबंधित क्षेत्रों में संबंधित उत्पादन, कौशल विकास, शिक्षा तथा शोध व विकास के क्षेत्र में उच्चस्तरीय विशेषज्ञता व आधारभूत ढांचा रखती है।  गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के पास भी इस क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर की शोध, शिक्षण एवं अन्य सुविधाएं उपलब्ध हैं।  कंपनी चिमिक (इंडिया) लिमिटेड के साथ एमओयू होने से दोनों संस्थाएं मिलकर कार्य करेंगी तथा एक दूसरे की सुविधाओं का प्रयोग कर सकेंगी।  इससे विश्वविद्यालय में इस क्षेत्र में काम कर रहे विद्यार्थियों, शोधार्थियों व शिक्षकों को विशेष फायदा होगा।  दोनों संस्थानों के सहयोग से कार्य करने पर दोनों संस्थानों के साधनों का भरपूर उपयोग हो सकेगा तथा दोनों संस्थानों के उपलब्ध तथा सृजित मौकों का और बेहतर फायदा उठा सकेंगे।  दोनों संस्थान कौशल आधारित शिक्षण-प्रशिक्षण तथा शोध के क्षेत्र में एक दूसरे का सहयोग करेंगे।  दोनों संस्थानों ने इस एमओयू पर खुशी व्यक्त की है। एमओयू पर विश्वविद्यालय की ओर से विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बलदेव राज काम्बोज की उपस्थित में कुलसचिव प्रो. अवनीश वर्मा व डीन इंटरनेशनल रिलेशंस प्रो. विनोद छोकर ने तथा चिमिक (इंडिया) लिमिटेड की ओर से राजेश केडिया व रवि अग्रवाल ने हस्ताक्षर किए।
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post कुलपति प्रो. बलदेव राज काम्बोज ने परीक्षा नियंत्रण शाखा की व्यवस्थाओं का लिया जायजा
Next post फसलों की समग्र सिफारिशें किसानों के लिए होती हैं लाभदायक : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज, गहन मंथन व भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखकर दी जाती हैं सिफारिशें
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
%d bloggers like this: