गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार स्पीकाथॉन क्लब द्वारा आजादी अमृतमहोत्सव श्रृंखला का पंद्रहवां संस्करण आयोजित

0
11
0 0
Read Time:5 Minute, 26 Second

गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार स्पीकाथॉन क्लब द्वारा आजादी अमृतमहोत्सव श्रृंखला का पंद्रहवां संस्करण आयोजित

गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के ट्रेनिंग एंड प्लेसमैंट सैल के मार्गदर्शन में कार्यरत स्पीकाथॉन क्लब द्वारा भारत की आजादी के 75वें वर्ष के उपलक्ष्य में ऑनलाइन भाषण प्रतियोगिता’ के रूप में ‘आजादी अमृत महोत्सव श्रृंखला’ के 15वें संस्करण का आयोजन किया गया।  शैक्षणिक मामलों के अधिष्ठाता प्रो. हरभजन बंसल समारोह के मुख्य अतिथि थे। भौतिकी विभाग के प्रो. देवेंद्र मोहन व एचएसबी के डा. मणीश्रेष्ठ भाषण प्रतियोगिता के निर्णायक थे। इस प्रतियोगिता में विभिन्न महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों के 29 विद्यार्थियों ने भाग लिया। सितम्बर माह में जिन स्वतंत्रता सेनानियों की जयंती या पुण्यतिथि होती है, प्रतिभागियों ने ऐसे महापुरूषों शहीद भगत सिंह, विट्ठल भाई पटेल, जतिंद्र नाथ दास, अब्दुल हाफिज मोहम्मद, एम. विश्वेश्वरैया, विनोबा भावे, डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन, दादाभाई नौरोजी और अनंत बंधु को श्रद्धांजलि अर्पित की तथा उनके जीवन संघर्ष पर अपना वक्तव्य प्रस्तुत किया।
विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए मुख्यातिथि प्रो. हरभजन बंसल ने कहा कि हमें स्वतंत्रता के महत्व को समझना चाहिए और उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को याद करना चाहिए, जिन्होंने ब्रिटिश पंजों से देश की आजादी के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया। उन्होंने कहा कि आजादी अमृतमहोत्सव श्रृंखला आजादी के लिए स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए संघर्षों के बारे में जानने के लिए ट्रेनिंग एंड प्लेसमैंट सैल की एक महान पहल है। उन्होंने यह भी कहा कि संचार आधुनिक कॉर्पोरेट जीवन का अभिन्न अंग है और यह कार्यक्रम सभी प्रतियोगियों को संचार कौशल बढ़ाने के लिए एक उत्कृष्ट मंच प्रदान करता है।
डॉ. मणी श्रेष्ठ ने प्रतिभागियों को कहा कि भाषण प्रतियोगिता में भाग लेते समय, विद्यार्थियों को बॉडी लैंग्वेज, आत्मविश्वास, आई कंटेक्ट, सामग्री और प्रभावी प्रस्तुति जैसे कारकों का ध्यान रखना चाहिए। डॉ. देवेंद्र मोहन ने स्वतंत्रता सेनानियों के लिए कुछ पंक्तियां बोलते हुए विद्यार्थियों से स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की। क्लब मेंटर डॉ. रंजीत दलाल ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
प्लेसमैंट निदेशक प्रताप सिंह मलिक ने अपने स्वागत सम्बोधन में इस श्रृंखला में भाग लेने के लिए विद्यार्थियों को बधाई देते हुए अपील की कि वे दिए गए व्यक्तित्व के बारे में पढ़ें, जिससे उन्हें स्वतंत्रता सेनानियों की अछूती घटनाओं और तथ्यों के बारे में ज्ञान हासिल करने में मदद मिलेगी।
ट्रेनिंग एंड प्लेसमैंट सैल के सहायक निदेशक आदित्यवीर सिंह ने बताया कि जूनियर वर्ग में मुम्बई विश्वविद्यालय की स्मृति ने प्रथम, जेसी बोस विश्वविद्यालय की लक्ष्मी ने द्वितीय और डीएन महाविद्यालय हिसार की विधि ने तृतीय स्थान प्राप्त किया जबकि सीनियर वर्ग में गुजविप्रौवि के शिक्षांक ने पहला स्थान व रिया ने दूसरा स्थान प्राप्त किया।  अंशुल व पल्लवी ने संयुक्त रूप से तीसरा स्थान हासिल किया।
ऐक्टिविटी कोर्डिनेटर प्रतिभा और राघव के साथ क्लब समन्वयक अपूर्वा और शुभम व टीम के अन्य सदस्यों ने इस कार्यक्रम का प्रभावी समन्वयन किया। कार्यक्रम का संचालन संजू व मोनिका सिहाग ने किया।
Photo 3 TP 17.09.2021

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here