[ad_1]

पटनाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
1604559246

उपेंद्र कुशवाहा ने प्रेस कांफ्रेंस में एनडीए और महागठबंधन दोनों पर निशाना साधा।

  • कांग्रेस नेता जलील मस्तान के बयान पर तल्ख हुए, कहा- चुनाव आयोग कार्रवाई करे
  • बोले- हमारी सरकार बनी तो बिहार में लघु-कुटीर उद्योग को देंगे बढ़ावा

रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने गुरुवार को एक तीर से दो-दो निशाने साधे। तीसरे चरण के प्रचार के अंतिम दिन उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में एनडीए और महागठबंधन पर हमला बोला। उन्होंने कहा- जिस तरह से एनडीए के नेता जुमलेबाजी करने में माहिर हैं, उसी तरह तेजस्वी यादव 10 लाख नौकरी देने की बात कह रहे हैं। बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार जमकर जुमलेबाजी हुई है।

तेजस्वी पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि 10 लाख नौकरी देने का वादा भी एक चुनावी जुमला है। बिहार में 6 करोड़ लोग बेरोजगार हैं, ऐसे में राजद युवाओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहा है। इनका दावा है कि बिहार में 42 प्रतिशत बेरोजगारी है। राज्य में 5 से 6 करोड़ लोग बेरोजगार हैं। इसमें 10 लाख नौकरी की बात करना बेइमानी है। इनमें बेरोजगार युवाओं की संख्या 2 से ढाई करोड़ है। सरकारी आंकड़ा है कि 18 से 20 लाख लोग पलायन कर चुके हैं । बिहार चुनाव में पब्लिक को लुभाने के लिए इस बार बेरोजगारी, शिक्षा और रोजगार की चर्चा हुई।

कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनी तो बेरोजगारी दूर करने के कदम उठाएंगे। मजदूरों के लिए हम मनरेगा के तर्ज पर स्वामी सहजानंद रोजगार योजना लाएंगे। इससे दूसरे प्रदेश में काम करने वाले बिहार में ही रहेंगे। इनके साथ-साथ किसानों को भी फायदा होगा।

पढ़ लिख कर जो युवा दूसरे प्रदेश में जाते हैं, इन्हें बिहार में ही सरकार बनने पर लघु और कुटीर उद्योग उपलब्ध कराएंगे। हमारी सरकार बनने पर खाने-पीने की चीजों का उत्पादन जो करेंगे, उन्हें सरकार अपने स्तर से मार्केट उपलब्ध कराएगी।

उपेंद्र कुशवाहा ने कांग्रेस नेता जलील मस्तान की ओवैसी पर गलत टिप्पणी को शर्मनाक बताया। तल्ख अंदाज में उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग अमौर में राहुल गांधी और तेजस्वी यादव के सामने जलील मस्तान के ओवैसी पर दिए गए गलत बयान पर संज्ञान ले और अविलंब कार्रवाई करे।

[ad_2]

Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें