[ad_1]

अमृतसर13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
2042205a1hight349width559 1604569221

पाकिस्तान स्थित श्री करतारपुर साहिब

  • करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के प्रबंधन की जिम्मेदारी पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से छीनी
  • भारत में हो रहा पाकिस्तान के इस फैसले का विरोध, एसजीपीसी और डीएसजीएमसी ने की कड़ी निंदा

श्री करतारपुर साहिब को लेकर पाकिस्तान ने अब एक नई चाल चली है, जिसका भारत में विरोध किया जा रहा है। दरअसल, पाक सरकार ने फैसला लिया है कि श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारा का प्रबंधन अब पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (पीएसजीपीसी) नहीं देखेगी। बल्कि इसकी जिम्मेदारी अब ईटीपीबी (Evacuee Trust Property Board) को सौंपी गई है।

वहीं शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष गोबिंद सिंह लौंगोवाल ने पाकिस्तान के इस फैसले की कड़े शब्दों में निंदा की है। एसजीपीसी अध्यक्ष का कहना है कि पाकिस्तान की सरकार ने गलत फैसला लिया है। इसे तुरंत वापस लिया जाना चाहिए। करतारपुर साहिब का प्रबंधन पीएसजीपीसी ही देख सकती है। क्योंकि वह सिख संगत की भावनाओं और करतारपुर साहिब के महत्व को अच्छे से समझती है।

विदेश मंत्रालय ने पत्र जारी करके निंदा की

विदेश मंत्रालय, भारत सरकार ने भी श्री करतापुर साहिब के प्रबंधन को लेकर लिए गए पाकिस्तान सरकार के फैसले की निंदा की है। मंत्रालय की ओर से जारी पत्र जारी करके कहा गया है कि पाकिस्तान का फैसला सिख संगत की आस्था और धार्मिक भावनाओं के खिलाफ है। इस तरह के फैसले पाकिस्तान सरकार की पोल खोलते हैं। इन हरकतों से पाकिस्तान का असली चेहरा दुनिया के सामने उजागर होता है।

डीएसजीएमसी ने फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी पाकिस्तान के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। सिरसा ने कहा कि पाकिस्तान ने गुरुद्वारे का प्रबंधन एक सिख संगठन से छीनकर आईएसआई के संगठन ईटीपीबी को सौंपकर गलत किया है।

550वें प्रकाश पर्व पर श्रद्धालुओं के लिए खुला था करतारपुर साहिब
पाकिस्तान ने श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारा श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर भारतीय श्रद्धालुओं के लिए खोला था। इसके लिए भारत और पाकिस्तान के बीच एक कॉरिडोर का निर्माण किया गया था। जिसका उद्घाटन भारत की तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। पाकिस्तान की तरफ कॉरिडोर का उद्घाटन प्रधानमंत्री इमरान खाना ने किया था। कोरोना महामारी की वजह से मार्च महीने से कॉरिडोर बंद है, जिसे अभी तक खोला नहीं गया है।



[ad_2]

Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें