[ad_1]

चंडीगढ़7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
orig bhatta1589280607 1604525345
  • 2020 में निवेश के पांच ऑप्शन को अपनाया ट्राईसिटी के इन्वेस्टर्स ने, एफडी और अन्य जमा पर ब्याज दरों के चार-पांच फीसदी पर आने ने बदले इन्वेस्टमेंट ट्रेंड

इस साल बैंक एफडी पर घटती ब्याज दरों और लॉकडाउन के चलते लोगों ने निवेश के नए विकल्प अपनाने शुरू कर दिए हैं। म्यूचुअल फंड, आईपीओ, अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म प्लान, गोल्ड और प्रॉपर्टी में निवेश बढ़ा है। ट्राईसिटी में गोल्ड और प्रॉपर्टी में निवेश बढ़ा है।

इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट बीबी गोयल के अनुसार हर व्यक्ति भविष्य के लिए निवेश करता है। लोग रिटर्न तो कम सहन कर सकते हैं, लेकिन डूबना मंजूर नहीं। इसीलिए लॉकडाउन के बाद वे ऐसे म्यूचुअल फंड्स को अपना रहे हैं, जो इक्विटी जोखिम में कम एक्सपोजर रखते हैं और डेट फंड्स में अधिक निवेश करते हैं। इसमें वे 8-9 फीसदी रिटर्न कमाने में भी कामयाब रहे हैं।

हर व्यक्ति भविष्य के लिए निवेश करता है, लोग रिटर्न तो कम सहन कर सकते हैं, लेकिन डूबना मंजूर नहीं…

}एसआईपी में निवेश से कमा सकते हैं पैसे…

इक्विटी निवेश के पोर्टफोलियो में सबसे जरूरी एसेट क्लास में से एक है। इसमें आप एसआईपी के जरिए निवेश से दौलत बना सकते हैं। कई कंपनियां इक्विटी में एसआईपी की सुविधा दे रही हैं, जो अभी तक प्रमुख तौर पर म्यूचुअल फंड्स में ही मिलती थीं।

बीते चार महीने में ट्राईसिटी में एसआईपी अकाउंट्स की संख्या 7 फीसदी तक बढ़ी है। इक्विटी म्यूचुअल फंड अभी भी बेहतर विकल्प बने हुए हैं। इक्विटी मार्केट के वैल्युएशन को देखते हुए निवेशकों को एसआईपी मोड से नियमित तौर पर पैसा लगाना चाहिए। वैल्यू फंड्स में भी निवेश किया जा सकता है।

प्रॉपर्टी 30% बुकिंग बढ़ी घरों की…

निवेश चंडीगढ़ के बजाय आसपास के एरिया में अधिक हुआ है। प्लॉट से लेकर फ्लैट्स में लोगों ने निवेश किया है। अप्रैल से जून 2020 के मुकाबले जुलाई से सितंबर और फिर अक्टूबर में ट्राईसिटी में फ्लैट्स की बुकिंग 30 फीसदी तक बढ़ी है।

अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म स्कीम… कुछ निवेशक अपने फंड को लंबे समय के लिए नहीं रखना चाहते और निवेश करने पर लिक्विडिटी चाहते हैं। उन्होंने ऐसे ही फंड्स को चुना है। ऐसे निवेशकों के लिए सेबी ने अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म और कम अवधि की स्कीम्स को रेगुलेट किया है, जो अधिक भरोसेमंद हैं।

गोल्ड ने 30 फीसदी तक रिटर्न दिया… बीते एक साल में सोने ने 30 फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया है और इसने एक बार फिर से इन्वेस्टर्स का ध्यान खींचा है। गोल्ड ईटीएफ में निवेश फिर से बढ़ा है और बीते छह महीनों में ये निवेश काफी तेजी से बढ़ा है।

सोना अभी भी अपने ऑल टाइम हाई से करीब 5 हजार प्रति दस ग्राम नीचे है, यानि इसमें इतना उछाल तो कभी भी आ सकता है। इमरजेंसी के लिए सोने में निवेश करने का ट्रेंड बढ़ा है। महंगाई और बाजार की अस्थिरता से आपको बचाने के लिए यह बेहतरीन एसेट क्लास है। सोने को फिजिकल फॉर्म में खरीदने का ट्रेंड भी बढ़ा है।

पोस्ट ऑफिस सेविंग स्कीम पर कायम है लोगों को भरोसा
दशकों से पोस्ट ऑफिस लोगों के निवेश पात्र बने हुए हैं और इनमें लोगों का निवेश कभी कम नहीं होता। मासिक बचत योजना, मासिक आय योजना, पीपीएफ और अब सुकन्या समृद्धि जैसी योजनाओंके साथ इस साल पोस्ट ऑफिस लगातार इनवेस्टमेंट डेस्टिनेशन बने हुए हैं। इन सभी पर ब्याज कम हुआ है, लेकिन अभी भी पोस्ट कई स्कीम्स पर बैंकों से अधिक ब्याज दे रहा है।

इन बातों पर लोगों ने दिया ध्यान…

  • निवेश पर बेहतर रिटर्न के लिए प्रत्येक इन्वेस्टर वित्तीय लक्ष्य, जोखिम, निवेश के रिटर्न और फंड की उपलब्धता को ध्यान में रखता है
  • भविष्य में ज्यादा वित्तीय परेशानी या चिंता न हो, इसके लिए हर व्यक्ति निवेश के सही विकल्प ढूंढ़ता है
  • मजबूत फाइनेंशियल पोर्टफोलियो बनाना जटिल और मुश्किल हो सकता है

[ad_2]

Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें