नेशन टाइम्स

उत्तर प्रदेश में एक बार फिर सियासत उबाल पर आ गई है। भाजपा सरकार और समाजवादी पार्टी आमने सामने है तो अखिलेश यादव और योगी आदित्यनाथ के बीच भी शब्द बाण चलने शुरू हो गए हैं। इसकी वजह से मंगलवार को सपा सुप्रीमो अखिलेश को प्रयागराज जाने से रोक देना जिसके बाद सपाई जमकर विरोध कर रहे हैं। इसी बीच अखिलेश को प्रयागराज जाने से रोकने की असली वजह भी सामने आ गई है।

इलाहाबाद विवि के कार्यक्रम में जा रहे थे अखिलेश

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव इलाहाबाद विवि के कार्यक्रम में शामिल होने मंगलवार को जा रहे थे। जब वो प्राइवेट प्लेन से वहां जाने के लिए लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचे तो प्रशासन ने उनको रोक दिया और वहां जाने से मना कर दिया। इस बीच नाराज अखिलेश की वहां एडीएम से हल्की बहस भी हो गई।

आगरा से लेकर मैनपुरी तक सपाइयों में दिख रहा आक्रोश

प्रशासन की रोक की खबर मिलते ही सपाइयों में उबाल आ गया। लखनऊ, फिरोजाबाद, मैनपुरी, आगरा, मथुरा से लेकर एटा में सपा और अखिलेश समर्थकों ने बवाल करना शुरू कर दिया। उन्होंने योगी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की औऱ पुतले भी फूंके।

ये है अखिलेश को वहां जाने से रोकने की असली वजह

अखिलेश को रोकने की वजह इलाहाबाद विवि के रजिस्ट्रार का एक पत्र है। इस पत्र को उन्होंने अखिलेश के निजी सचिव को सोमवार को ही लिख दिया था। निजी सचिव गंगाराम को लिखे इस पत्र में कुलसचिव ने साफ कर दिया था राजनीतिक दलों को इस कार्यक्रम से दूर रखने का फैसला किया गया है।

पूरी घटना थी सपा सुप्रीमो का खेल

इस पत्र के सामने आने से साफ हो गया है कि राजनीतिक व्यक्ति को वहां शामिल होने की अनुमति नहीं थी। इस बात को सोमवार को जानने के बाद भी सपा अध्यक्ष वहां जा रहे थे। उनको पहले से ही पता था कि उनको रोका जाएगा जिसके बाद राजनीति होगी।