the nation Times

आज रायबरेली के बछरावां थाना क्षेत्र के हरदोई या ग्राम निवासी सत्यपाल सिंह ने आज एक नहर में कूदकर अपनी जीवन लीला को समाप्त कर लिया बताया यह जा रहा है कि बहुत दिनों से परेशान थे क्योंकि 25 जुलाई 2017 को माननीय सर्वोच्च न्यायालय से समायोजन निरस्त होने के बाद से अपने परिवार की जरूरतें और अपने बच्चों की पालन पोषण में बहुत सारी दिक्कतें आ रही थी उनके सर पर बहुत सारा कर्ज का बोझ था और सरकार ने शिक्षामित्रों की नहीं सुनी ढाई साल बीतने के बाद आज सरकार कुछ भी सुनने के लिए कुछ करने के लिए मानदेय बढ़ाने के लिए वेतन सैलरी कुछ सुन नहीं रही है तब वह बहुत परेशान होकर आज उन्होंने अपनी आखिरी सांस ले ले और the nation Times  कभी यह सवाल है की क्या उत्तर प्रदेश में रहने वाले परिषदीय विद्यालयों में काम करने वाले शिक्षामित्र किया उत्तर प्रदेश के नागरिक नहीं है क्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी नहीं बनती है कि वह अपने शिक्षामित्रों के लिए भी रास्ता निकालने क्या आज शासन-प्रशासन इतना विफल हो चुका है कि किसी की समस्या के लिए समाधान ढूंढने में अधिकारी बाबू दो दो साल तक रास्ता नहीं निकाल पाते लेकिन यह भी सोचना होगा कि जब सरकार की सैलरी बनानी होती है तो रातों रात फाइलें तैयार हो जाती हैं लेकिन शिक्षामित्रों के लिए आज तक कोई भी काम नहीं हो पाया कई बार उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ जी ने मुलाकात की प्रतिनिधिमंडल से लेकिन वार्ता सफल नहीं हो पाई झूठे आश्वासन देकर शिक्षा मित्र को बरगलाने की कोशिश की गई राजनीतिकरण किया गया यह दाने sun-times का सवाल है इस पर गाने सन टाइम्स की अपील है कि उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ जी सोचे और समझे किस्स का सिंदूर मिटा जिन बच्चों की सर से साया उठा उनके यहां क्या हाल होगा या उत्तर प्रदेश के मुखिया को सोचना होगा और उम्मीद की जा सकती है कि जल्द से जल्द उनका निस्तारण कर दिया जाएगा