[ad_1]

जींद14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा ली जा रही दसवीं, बारहवीं व डीएड की परीक्षा में गुरुवार को पकड़े गए 12 मुन्नाभाई रोल नंबर पर फोटो बदलकर परीक्षा दे रहे थे। जब अधिकारियों ने परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों वे उनके रोल नंबर, आधार कार्ड की जांच तो सच्चाई सामने आई। केंद्र अधीक्षकों ने सभी को पुलिस के हवाले कर दिया। सभी के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में दसवीं की परीक्षा में दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने वाले 11 युवकों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। राजकीय कन्या सीनियर सेकेंडरी स्कूल के एडीए राजेंद्र सिंह ने पुलिस में शिकायत दी थी कि गुरुवार को राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में दसवीं कक्षा का सोशल साइंस विषय का पेपर चल रहा था। इस दौरान बोर्ड सचिव की फ्लाइंग ने परीक्षा केंद्र पर छापेमारी की।

छापेमारी के दौरान धरौदी के अमन, बहादुरपुर के अन्नू, मांडो के सोमबीर, डिडवाड़ा के रवि, बिरोली के अभिषेक, जुलानी के मंजीत, नारायणगढ़ के जगजीत ओर 4 अन्य नाबालिग युवक दूसरे की जगह परीक्षा दे रहे थे। फ्लाइंग ने सभी को मौके पर ही पकड़ लिया था। बाद में पुलिस के हवाले कर दिया था। छापेमारी के दौरान रोल नंबर में किसी भी परीक्षार्थी का फोटो नहीं मिला। जांच में सभी 11 युवक परीक्षा में बैठे फर्जी मिले। जांच अधिकारी एसआई श्रीकृष्ण ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में सभी युवकों के खिलाफ धोखाधड़ी करने सहित अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है।

डिफेंस काॅलोनी स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के सुपरिंटेंडेंट नरेश कुमार ने पुलिस में शिकायत दी है कि स्कूल में डीएड की परीक्षा चल रही है। इस दौरान जब वह परीक्षा केंद्र की जांच कर रहे थे तो एक युवक जांच में फर्जी निकला। उससे नाम और पता पूछा तो उसने अपनी पहचान (बिहार) मदुबनी जिले के ककिया ब्लॉक लोकी निवासी सकल देव बताई। उसके बाद जांच की गई तो वह (बिहार) लोकी के गांव अमरपुरा निवासी रामपुकार की जगह परीक्षा दे रहा था। जांच अधिकारी एएसआई वीरेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस ने सकल देव और रामपुकार के खिलाफ केस दर्ज कर सकल देव को गिरफ्तार कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

[ad_2]

Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें