एजुकेशन

हरियाणा स्कूल ऑफ बिजनेस की ओर से 15वें वार्षिक राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन 09-10 फरवरी को

गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार जुटा तैयारियों में

TNT News, Hisar: गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के हरियाणा स्कूल ऑफ बिजनेस (एचएसबी) द्वारा नियमित रूप से वार्षिक राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए ‘व्यापार एवं प्रबंधन’ पर एचएसबी के 15वें वार्षिक राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन 09-10 फरवरी, 2023 को होगा। सम्मेलन का उद्देश्य कुलीन शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं, शिक्षकों, व्यापारियों, उद्यमियों व विद्यार्थियों के बीच ‘व्यवसाय एवं प्रबंधन’ से संबंधित विचारों पर एक सार्थक संवाद को बढ़ावा देना है। विपणन, वित्त, मानव संसाधन प्रबंधन, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार तथा आर्थिक मुद्दों के क्षेत्रों में विभिन्न शोधकर्ताओं से अब तक 120 से अधिक शोधपत्र प्राप्त हुए हैं तथा इनको 25 से अधिक तकनीकी सत्रों में वार्षिक सम्मेलन में प्रस्तुत किया जाएगा।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बलदेव राज काम्बोज ने विषय पर प्रकाश डालते हुए बताया कि अनुसंधान एवं विकास किसी भी राष्ट्र के शैक्षणिक व अन्य संस्थानों की उन्नति में आधारशिला होते हैं। इसके अतिरिक्त एचएसबी लगातार प्रबंधन के विभिन्न विषयों में अनुसंधान को प्रोत्साहित करता है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली के पूर्व सचिव डॉ. आर.के. चौहान सम्मेलन के मुख्य अतिथि होंगे। अखिल भारतीय प्रबंधन संस्थान, लखनऊ से प्रोफेसर प्रकाश सिंह सम्मेलन के मुख्य वक्ता होंगे तथा अदानी प्राकृतिक संसाधन, गुरुग्राम के व्यवसाय विकास एवं विपणन के प्रदीप मिश्रा सम्मेलन के विशिष्ट अतिथि होंगे।
विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. अवनीश वर्मा ने बताया कि सम्मेलन की तैयारियां पूरी की जा रही हैं।

gju hisar 02

एचएसबी के डीन प्रो. कर्मपाल नरवाल व डायरेक्टर प्रो. महेश चंद गर्ग ने बताया कि एचएसबी एनबीए मान्यता प्राप्त व एनआईआरएफ रैंक प्राप्त स्कूल है। एचएसबी लगातार विद्यार्थियों, शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं व पेशेवरों के अनुसंधान कौशल को बढ़ाने में लगा हुआ है। हर वर्ष इस प्रकार के सम्मेलन आयोजित करके एचएसबी ने व्यवसायिक शिक्षा के क्षेत्र में शैक्षणिक नेतृत्व हासिल करने की सफल कोशिश की है। उन्होंने बताया कि सम्मेलन में व्यावसायिक जगत में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहतर विकल्पों की उत्पत्ति के लिए अपने अनुभवों, विशेषज्ञताओं, विचारों, नवाचारों व अनुसंधान को साझा करने के लिए बुद्धिजीवियों को एक मंच प्रदान करेगा।

उन्होंने बताया कि सम्मेलन के लिए चयनित शोध पत्रों वाली संपादित पुस्तक ‘फ्लोरिलिजियम – मैनेजमेंट थ्योरी, रिसर्च एंड प्रैक्टिसेज’ शीर्षक से आईएसबीएन नंबर के साथ प्रकाशित की जाएगी तथा इस अवसर पर आमंत्रित विभिन्न गणमान्य व्यक्तियों द्वारा सम्मेलन में इसका विमोचन किया जाएगा। यह पुस्तक संपादकों प्रो. कर्मपाल नरवाल, प्रो. महेश चंद गर्ग, डॉ. सुरेश कुमार भाकर व डॉ. विजेंदर पाल सैनी का एक सामूहिक प्रयास है, जिन्होंने विभिन्न शोधकर्ताओं द्वारा व्यवसाय एवं प्रबंधन से संबंधित समसामयिक मुद्दों पर किए गए शोध के संकलन को एक साथ लाने के लिए कर्तव्यनिष्ठा से कार्य किया। सम्मेलन के संयोजक डॉ. सुरेश कुमार भाकर व डॉ. विजेंद्र पाल सैनी ने बताया कि सम्मेलन में ‘स्टार्टअप : चुनौतियां एवं आगे की राह’ विषय पर एक पूर्ण सत्र का आयोजन होगा, जहां विद्यार्थियों व शिक्षाविदों के साथ उद्योग विशेषज्ञ चर्चा करेंगे। सम्मेलन में 25 से अधिक विभिन्न तकनीकी सत्रों का आयोजन किया जाएगा, जिनका संचालन विभिन्न संस्थानों व उद्योगों के 50 से अधिक आमंत्रित विशेषज्ञ करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button