Photo 1 Bio Nano 18.05.2022

सैफ पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ के सहयोग से डीएसटी समर्थित सात दिवसीय स्तुति हैंड्स-ऑन ट्रेनिंग कार्यक्रम सैफ, पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ में सफलतापूर्वक सम्पन्न हो गया है।

Read Time:4 Minute, 10 Second

सैफ पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ के सहयोग से डीएसटी समर्थित सात दिवसीय स्तुति हैंड्स-ऑन ट्रेनिंग कार्यक्रम सैफ, पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ में सफलतापूर्वक सम्पन्न हो गया है।

गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार
18 मई 2022
प्रथम सत्र में प्रख्यात वक्ताओं रसायन विज्ञान विभाग, पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ के डॉ. पी वेणुगोपालन और डॉ. सुभाष सी. साहू द्वारा सिंगल क्रिस्टल एक्स-रे क्रिस्टलोग्राफी पर विशेषज्ञ वार्ता दी गई थी। वार्ता के बाद प्रतिभागियों को एक्स-रे और एचआर-टीईएम उपकरणों पर व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया गया।
दूसरे सत्र के दौरान सैफ, पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ में प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन समारोह का आयोजन किया गया। पंजाब विश्वविद्यालय चण्डीगढ़ के एनएएसआई प्लेटिनम जुबली फेलो और एमेरिटस प्रोफेसर प्रो. के.के. भसीन समापन समारोह के मुख्यातिथि थे। गुुजविप्रौवि हिसार के कुलसचिव प्रो. अवनीश वर्मा व डीन रिसर्च प्रो. नीरज दिलबागी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।  इस अवसर पर आयोजन समिति द्वारा प्रो. भसीन एवं प्रो. वर्मा का पौधा भेंट कर स्वागत किया गया।
मुख्यातिथि प्रो. भसीन ने सात दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेने के लिए सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद किया। पंजाब विश्वविद्यालय के स्तुति समन्वयक प्रो. जी.आर.चौधरी ने सभी प्रतिभागियों से सात दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान प्राप्त ज्ञान का प्रसार करने का आह्वान किया।  प्रो. भसीन व प्रो. अवनीश वर्मा द्वारा प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किए गए।
विशिष्ट अतिथि प्रो. अवनीश वर्मा ने प्रतिभागियों को एक दूसरे के सहयोग से काम करने और सात दिनों के कार्यक्रम के दौरान प्राप्त ज्ञान को अपने शोध करियर में उपयोग करने के लिए प्रेरित किया।
विशिष्ट अतिथि प्रो. नीरज दिलबागी ने प्रतिभागियों से स्तुति कार्यक्रम की और बेहतरी के लिए उनके सुझाव मांगे। अंत में प्रतिभागियों ने कार्यक्रम के बारे मे प्रतिक्रिया दी।
डॉ. संदीप कुमार ने प्रशिक्षण के दौरान की गई सात दिवसीय गतिविधियों की विस्तार से जानकारी दी। प्रतिभागियों ने कार्यक्रम के अनुभव साझा करते हुए भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा एक ऐसा मंच प्रदान करने के लिए की गई इस पहल की सराहना की, जहां सभी शोधकर्ता विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के बुनियादी ढांचे तक खुली पहुंच के माध्यम से अपने तकनीकी कौशल को बढ़ा सकें। स्तुति प्रशिक्षण कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए गणमान्य व्यक्तियों, कार्यक्रम समन्वयकों, आयोजकों, सहायक कर्मचारियों, तकनीकी सहायता के लिए सभी ने आभार जताया।

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Photo 3 Physics 18.05.2022 Previous post पाठ्यक्रम के साथ-साथ व्यवहारिक कौशल की शिक्षा भी वर्तमान समय की मांग : प्रो. काम्बोज
Photo 1 HRDC 18.05.2022 Next post शिक्षकों की भूमिका युद्ध में तैनात सैनिकों से कम नहीं : प्रो. जोशी
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
%d bloggers like this: