1

तकनीकों को किसानों तक पहुंचाने में विस्तार विशेषज्ञों का अहम योगदान: प्रो. बी.आर. काम्बोज

Read Time:4 Minute, 43 Second

तकनीकों को किसानों तक पहुंचाने में विस्तार विशेषज्ञों का अहम योगदान: प्रो. बी.आर. काम्बोज

हिसार : 4 मई
वैज्ञानिकों द्वारा किया गया अनुसंधान कार्य तभी सफल होगा जब उसे धरातल तक पहुंचाया जाए। इसके लिए वैज्ञानिकों को प्रभावशाली विस्तार प्रणाली अपनानी होगी ताकि उनके द्वारा विकसित कृषि तकनीकों का किसान अधिक से  अधिक लाभ उठा सकें। यह आह्वान चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बी.आर. काम्बोज ने विश्वविद्यालय के मानव संसाधन प्रबंध निदेशालय की ओर से विस्तार प्रबंधन विषय पर आयोजित किए गए तीन सप्ताह अवधि के रिफ्रेशर कोर्स के आज उद्घाटन अवसर पर बतौर मुख्यातिथि बोलते हुए किया।
कुलपति ने कहा वर्तमान समय में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बहुत विकास हुआ है। इस प्रौद्योगिकी का किसानों के लिए लाभकारी अनुसंधानों को उन तक पहुंचाने में बेहतर उपयोग किया जा सकता है। वैज्ञानिकों और विस्तार विशेषज्ञों को सूचना प्रौद्योगिकी का ज्ञान हासिल कर इस प्रौद्योगिकी को ज्यादा से ज्यादा प्रयोग किया जाना चाहिए। उन्होंने रिफ्रेशर कोर्स को प्रभावकारी बनाने के लिए इस दौरान आयोजित होने वाले विभिन्न सत्रों को अंत: संवाद एवं अंत: क्रिया सत्र बनाए जाने पर बल दिया। इसके साथ उन्होंने विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को रोजगार के बेहतर अवसर मुहैया करवाने के लिए विशेष सर्टिफिकेट व डिप्लोमा कोर्स तैयार किए जाने की आवश्यकता जताई। उन्होंने प्रतिभागियों से आह्वान किया वे इस कोर्स के दौरान प्राप्त किए ज्ञान व कौशल को व्यवहारिता में लाएं ताकि इसका लाभ किसानों को मिल सके।
इस मौके पर कुलपति ने मानव संसाधन प्रबंध निदेशालय की ओर से प्रकाशित ‘कम्युनिटी रिपोर्ट ऑन पोटेटो’ नामक पुस्तिका का विमोचन किया।
क्षमता संवर्धन पर दिया जाएगा विशेष ध्यान
मानव संसधान प्रबंध निदेशालय की निदेशक डॉ. मंजू महता ने कहा कि इस रिफे्रशर कोर्स का आयोजन शिक्षक, वैज्ञानिक व विस्तार विशेषज्ञों के लिए किया गया है ताकि विस्तार प्रबंधन हेतु उनकी क्षमता, ज्ञान व कौशल संवर्धन किया जा सके। इस कोर्स के माध्यम से प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण के लिए नवीनतम पाठ्यक्रम ज्ञान, शिक्षण सामग्री, चयनित विस्तार विधियों के उपयोग के बारे में जानकारी दी जाएगी। उन्होंने बताया इस कोर्स में कुल 29 वैज्ञानिक, प्राध्यापक व विस्तार विशेषज्ञ हिस्सा ले रहे हैं। कोर्स के दौरान एचएयू, विस्तार शिक्षा संस्थान नीलोखेड़ी, मैनेज हैदराबाद आदि संस्थानों से विशेषज्ञ व्याख्यान देंगे। इस अवसर पर उपरोक्त रिफे्रशर कोर्स की निदेशक डॉ. मंजू महता ने कार्यक्रम की रूपरेखा के बारे में बताया और पाठ्यक्रम संयोजिक डॉ. जयंती टोकस ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस मौके पर कोर्स के सह संयोजक डॉ. जितेन्द्र भाटिया भी मौजूद रहे। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के सभी महाविद्यालयों के अधिष्ठाता, निदेशक, अधिकारी एवं अन्य कर्मचारी मौजूद रहे ।

2.

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

277106535 481775393729804 8688615807754298382 n Previous post गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के कुलसचिव प्रो. अवनीश वर्मा की उच्च स्तरीय शैक्षणिक व प्रशासनिक सेवाओं को देखते हुए उन्हें कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरूक्षेत्र की कार्यकारी परिषद में राज्यपाल मनोनीत सदस्य नियुक्त किया गया है।
Photo 2 Sports 02.05.2022 Next post बैंगलूरू में चल रही राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिता खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स के तीसरे दिन गुरू जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हिसार के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया है।
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
%d bloggers like this: