[ad_1]

पटना: बिहार चुनाव में एक बार फिर ‘जंगलराज’ का जिन्न जाग उठा है. ‘जंगलराज’ का जिन्न ऐसे जगा है कि चुनावी रण की सारी लड़ाई अब इसी मुद्दे पर सिमट गई है. पीएम मोदी की ओर से तेजस्वी यादव को ‘जंगलराज का युवराज’ कहे जाने के बाद मसले ने ऐसा तूल पकड़ा है कि सभी नेता जंगलराज के दिनों हुए आतंक का बखान करने में जुट गए हैं.

इसी बीच एक बार फिर 2005 का चुनावी गोलीकांड का मुद्दा उठाया जा रहा है, जिससे बिहार की राजनीति गर्मा गई है. दरसअल, 28 अक्टूबर को चुनावी सभा संबोधित करने बिहार पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को ‘जंगलराज का युवराज’ का युवराज कहा था.

पीएम मोदी की बयान की जैसे ही विपक्ष ने आलोचना शुरू की, केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने दो ट्वीट कर 2005 में सासाराम के नोखा में उनके साथ हुए गोलीकांड कांड की चर्चा की और बताया कि आरजेडी शासनकाल में बिहार में कानून व्यवस्था की क्या हालत थी.

रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट कर लिखा, “जंगल राज का ये आलम था कि नोखा में स्व. प्रमोद महाजन जी और मैं चुनाव प्रचार कर रहे थे और जन सभा में मेरे ऊपर गोली चलाई गई. न पुलिस से कोई आया, न अस्पताल में इलाज के लिए डॉक्टर मिला. सोचिये आम जनता का क्या हाल होता होगा उस समय.”

उन्होंने लिखा कि इसमें कोई दो राय नहीं हो सकती कि लालू राबड़ी के राज में बिहार बर्बाद हो रहा था. आज भले ही तेजस्वी यादव नौकरी की बात करते हैं. लेकिन इन्हीं के माता-पिता के राज में बिहार से लोगों ने डरकर पलायन किया था.

रविशंकर प्रसाद ने एक पीसी के दौरान भी इस बात की चर्चा की थी. उन्होंने कहा था कि 2005 में जब मेरे साथ यह हुई थी, तब दो महीने तक पुलिस के अधिकारियों ने मामला तक दर्ज नहीं किया था. जब 2005 में नीतीश कुमार की सरकार बनी एक अधिकारी मेरे पास पहुंचा और कहा कि साहब ने भेजा है, मामला दर्ज करने के लिए.”

दरसअल, मामला 2005 के बिहार विधानसभा चुनाव का है. बीजेपी के बड़े नेताओं में से एक रविशंकर प्रसाद सासाराम के नोखा में प्रचार करने गये थे. बीजेपी के दिवंगत नेता प्रमोद महाजन भी उनके साथ थे. इसी दौरान मंच पर चढ़कर उन्हें गोली मार दी गई थी. हालांकि हमलावर पकड़ा गया था, जिसकी लोगों ने खूब पिटाई की थी. वहीं, तत्काल रविशंकर प्रसाद को इलाज के लिए हेलीकॉप्टर से पटना लाया गया था.

[ad_2]

Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें